Hindi Poem 1

Categories Poems

मत बता मुझे मंदिर और मस्जिद के रसूख़ की कहानी
मैं एक मज़दूर हूँ इन हाथों ने पता नहीं कितने अल्लाह के ठिकाने बनाये होगे ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *